PRIMARY SCHOOL

दस वर्षों से विभागीय उदासीनता का शिकार PRIMARY SCHOOL फटकन टोला का BROKEN BUILDING देरहा है बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण

अररिया से संवाददाता की रिपोर्ट 
-अररिया पलासी :–दस वर्षों से विभागीय उदासीनता का शिकार PRIMARY SCHOOL फटकन टोला का BROKEN BUILDING देरहा है बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण अररिया में एक विद्या का मंदिर अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। इस सरकारी स्कूल के भवन का एक हिस्सा दस वर्ष पूर्व परमान नदी की कटान से क्षतिग्रस्त  हुआ था। लेकिन इतने वर्षों बाद भी इसकी सुधि लेने वाला कोई नहीं है। नदी के किनारे झूलता ये भवन किसी बढ़ी दुर्घटना को आमंत्रण दे रहा। अररिया प्रखंड के बेलवा पंचायत स्थित प्राथमिक विद्यालय फटकन टोला का है ये हाल। जहां 2010 में परमान नदी के कटाव में ये स्कूल के भवन का आधा हिस्सा पानी में समा गया था। इसके बाद शिक्षा विभाग ने ठीक उसके करीब दूसरे भवन का निर्माण कराया है। अब छात्र नए भवन में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। लेकिन आज तक आधा ध्वस्त भवन उसी तरह नदी में लटका हुआ है।PRIMARY SCHOOL
इस टूटे भवन में छात्रों के साथ ग्रामीण बच्चे भी खेल कूद करते हैं। जो बड़ी दुर्घटना को निमंत्रण दे रहा है। फटकन टोला के ग्रामीण शाहनवाज आलम, इस्तियाक आलम, मो.आबिद आलम ने बताया कि ये आधा ध्वस्त भवन कभी भी नदी में समा जाएगा। लेकिन आजतक कोई पदाधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दिए और भवन खतरनाक होता जारहा है। ग्रामीणों ने बताया कि फटकन टोला में सिर्फ स्कूल के भवन की समस्या ही नहीं है। इस टोला तक आने का रास्ता तक नहीं है। सूखे के दिनों में लोग किसी तरह से बाहर जाते हैं। लेकिन अब परमान नदी में बाढ़ की स्थिति बन गई है लोगों का निकलना अब मुश्किल हो रहा है। ये स्थिति तीन महीनों तक रहेगी यहां नाव की बहुत जरूरत है ताकि आवागमन सुलभ हो सके।
PRIMARY SCHOOL—ध्वस्त भवन को लेकर कई बार आवेदन दिया गया है
मुखिया प्रतिनिधि मसूद आलम ने बताया कि शहर के सबसे करीबी पंचायत होने के बावजूद इस स्कूल के भवन का हाल बुरा है। दस वर्ष पहले परमान नदी में बाढ़ आई थी उसी में ये भवन कटाव की भेंट चढ़ गया था।  मेरे द्वारा शिक्षा विभाग और ज़िला आपदा विभाग को आवेदन देकर इसपर करवाई की बात कही गई है। लेकिन इस दिशा में आज तक कोई पहल नहीं हुई। फटकन टोला की घनी आबादी होने के कारण बच्चे इस टूटे भवन में खेल कूद करते हैं जो काफी खतरनाक है। अगर इस भवन को तोड़वाकर यहां मिट्टी भराई कर बॉण्डरी वाल देदिया जाए तो बच्चों के साथ स्कूल भी सुरक्षित हो जाएगा।
मसूद आलम, मुखिया प्रतिनिधि, बेलवा पंचायत, अररिया।
—जांच कराकर कार्यवाई होगी
 शिक्षा विभाग के द्वारा जांच कराकर उस भवन की वर्तमान स्थिति पता किया जाएगा।
सर्व शिक्षा अभियान से जांच कराई जाएगी ताकि वस्तु स्थिति का पता चल सके। जांच रिपोर्ट आने के बाद निश्चित रूप से ठोस कार्यवाई होगी।
अशोक मिश्र, ज़िला शिक्षा पदाधिकारी, अररिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here