विद्यालय में शिक्षकों का रंगीन फोटो और मोबाइल नम्बर बोर्ड पर चिपकाने में की जा रही लापरवाही पर राज्य शिक्षा विभाग हुआ शख्त , कई जिलों के DEO, DPO , BEO और सैकड़ों विद्यालय प्रधानों पर की जा सकती है बड़ी कार्रवाई, ,इस सम्बंध में शिक्षा विभाग ने फिर से किया आदेश जारी , किया किया दिया गया है आदेश जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े - NewstvBihar विद्यालय में शिक्षकों का रंगीन फोटो और मोबाइल नम्बर बोर्ड पर चिपकाने में की जा रही लापरवाही पर राज्य शिक्षा विभाग हुआ शख्त , कई जिलों के DEO, DPO , BEO और सैकड़ों विद्यालय प्रधानों पर की जा सकती है बड़ी कार्रवाई, ,इस सम्बंध में शिक्षा विभाग ने फिर से किया आदेश जारी , किया किया दिया गया है आदेश जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े - NewstvBihar

विद्यालय में शिक्षकों का रंगीन फोटो और मोबाइल नम्बर बोर्ड पर चिपकाने में की जा रही लापरवाही पर राज्य शिक्षा विभाग हुआ शख्त , कई जिलों के DEO, DPO , BEO और सैकड़ों विद्यालय प्रधानों पर की जा सकती है बड़ी कार्रवाई, ,इस सम्बंध में शिक्षा विभाग ने फिर से किया आदेश जारी , किया किया दिया गया है आदेश जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े

विद्यालय में शिक्षकों का रंगीन फोटो और मोबाइल नम्बर बोर्ड पर चिपकाने में की जा रही लापरवाही पर राज्य शिक्षा विभाग हुआ शख्त , कई जिलों के DEO, DPO , BEO और सैकड़ों विद्यालय प्रधानों पर की जा सकती है बड़ी कार्रवाई, ,इस सम्बंध में शिक्षा विभाग ने फिर से किया आदेश जारी , किया किया दिया गया है आदेश जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े

बिहार सरकार पिछले 4 सालों से चिट्ठी पर चिट्ठी लिख रही है। लेकिन जिलों के शिक्षा पदाधिकारी उसे रद्दी की टोकरी में डाल दे रहे हैं। पिछले 5 सालों में 6 से अधिक चिट्ठी मुख्यालय से सभी जिलों के डीईओ को भेजी गई।

लेकिन आज तक उस पर अमल नहीं किया गया है।

मामला शिक्षा विभाग से जुड़ा है। एक बार फिर से बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने सभी जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी और कार्यक्रम पदाधिकारी को पत्र लिखा है। राज्य परियोजना निदेशक श्रीकांत शास्त्री ने कहा है कि प्रारंभिक, माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों का नियमितता सुनिश्चित करने के लिए शिक्षकों का फोटो चिपकाना अति आवश्यक है। इस कार्यालय द्वारा कई पत्रों के माध्यम से प्रॉक्सी शिक्षक के संबंध में निर्देश दिया गया था कि सभी प्रारंभिक विद्यालयों में सूचना पट पर वरीयता क्रम में सभी शिक्षकों का रंगीन फोटो लगाना है।

साथ ही नाम पदनाम एवं मोबाइल नंबर फ्लेक्स बोर्ड पर तैयार कर सभी विद्यालयों में चिपकाना है। साथ ही इसकी सूचना राज्य कार्यालय को उपलब्ध कराने को कहा गया था। लेकिन किसी भी जिले द्वारा प्रारंभिक विद्यालयों में शिक्षकों की फोटो चिपकाने का रिपोर्ट नहीं दी गयी है। यानी उनके जिले के सभी विद्यालयों में यह आदेश लागू नहीं है।

राज्य परियोजना निदेशक ने कहा है कि यह पीजीआई का एक सूचकांक भी है। प्रारंभिक विद्यालयों की तरह माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में भी सभी शिक्षकों का रंगीन फोटो के साथ नाम पदनाम एवं मोबाइल नंबर फ्लेक्स बोर्ड पर तैयार कर चिपकाया जाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×