बिहार के नियोजित शिक्षकों के वेतन विसंगति की समस्या होगी दूर , 2000 ग्रेड पे 2000, 2400 ग्रेड पे में 3220 , 2800 ग्रेड पे में 5550 रुपिया नियोजित शिक्षकों को कम मिलता है , वेतन विसंगति दूर होने पर नियोजित शिक्षकों के वेतन में होगी भारी बढ़ोतरी  , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें - NewstvBihar बिहार के नियोजित शिक्षकों के वेतन विसंगति की समस्या होगी दूर , 2000 ग्रेड पे 2000, 2400 ग्रेड पे में 3220 , 2800 ग्रेड पे में 5550 रुपिया नियोजित शिक्षकों को कम मिलता है , वेतन विसंगति दूर होने पर नियोजित शिक्षकों के वेतन में होगी भारी बढ़ोतरी  , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें - NewstvBihar

बिहार के नियोजित शिक्षकों के वेतन विसंगति की समस्या होगी दूर , 2000 ग्रेड पे 2000, 2400 ग्रेड पे में 3220 , 2800 ग्रेड पे में 5550 रुपिया नियोजित शिक्षकों को कम मिलता है , वेतन विसंगति दूर होने पर नियोजित शिक्षकों के वेतन में होगी भारी बढ़ोतरी  , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें

बिहार के नियोजित शिक्षकों के वेतन विसंगति की समस्या होगी दूर , 2000 ग्रेड पे 2000, 2400 ग्रेड पे में 3220 , 2800 ग्रेड पे में 5550 रुपिया नियोजित शिक्षकों को कम मिलता है , वेतन विसंगति दूर होने पर नियोजित शिक्षकों के वेतन में होगी भारी बढ़ोतरी  , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें

बिहार पटना  :–माननीय एम एल सी श्री नवल किशोर यादव से बिहार के नियोजित शिक्षकों ने वेतन विसंगति को दूर करने , राज्य कर्मी का दर्जा देने  व 15 प्रतिशत वेतन में बढ़ोतरी वेतन विसंगति दूर कर आदेश देने हेतु शीतकालीन सत्र में आवाज उठाने व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और शिक्षा मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी से बात कर समस्याओ का समाधान करने की अपील की है।

श्री नवल किशोर यादव ने शिक्षकों को यकीन दिलाया है कि मैं हमेशा आपलोगो के लिए सरकार से सदन में सदन के बाहर लड़ता रहा हूँ । इस सम्बंध में मैंने पहले भी शिक्षा मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी से बात की थी उन्होंने मुझे विश्वास दिलाया था कि नियोजित शिक्षकों के वेतन विसंगति बहुत जल्द दूर हो जाएगी ।

श्री नवल कुशोर यादव ने बताया कि आपलोगो की वेतन विसंगति , राज्य कर्मी का दर्जा, और वेतन में 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी  का मामला आज सदन में उठाएंगे ।

_*5200 के स्केल में नियोजित शिक्षक का मूल वेतन और 5200 के स्केल में राज्यकर्मी का मूल वेतन स्केल में अंतर*_

_(1) 2000 ग्रेड वाले राज्यकर्मी का वेतन ढांचा 21700 से शुरू होता है जबकि नियोजित शिक्षकों को जो स्केल दिया गया है उसमें वेतन स्केल 21290 से शुरू होता है। जबकि 1 से 5 तक बेसिक नियोजित शिक्षक का ग्रेड पे 2000 है और राज्यकर्मी के भी ग्रेड पे 2000 हैं। फिर वेतन अंतर देखे राज्यकर्मी का वेतन स्केल 21700 से शुरू होती हैं, और 1 से 5 प्राइमरी स्कूल के नियोजित शिक्षक का स्केल 21290 से शुरू होती हैं।_

_वेतन अंतर *21700 – 21290= 410 रुपया का अगर 410 रुपया और बढ़ा दिया जाए,तो 1 से 5 तक का प्राइमरी नियोजित शिक्षक को 5200 स्केल में 2000 के ग्रेड पे में रंनिंग स्केल के साथ राज्यकर्मी का दर्जा मिल जाएगा।*_

_(2) 2400 ग्रेड वाले का राज्यकर्मी का मूल वेतन 25500 से शुरू होता है जबकि 2400 ग्रेड पे में *नियोजित शिक्षकों का मूल वेतन 22480 शुरू होता है।*

*वेतन अंतर 25500 – 22480= 3020 रुपया बढ़ा दिया जाए तो 2400 ग्रेड पे में 5200 का रनिंग स्केल के साथ राज्यकर्मी का दर्जा मिल जाएगा।*_

_(3) 2800 ग्रेड वाले राज्यकर्मी का मूल वेतन 29200 से शुरू होता है जबकि 2800 ग्रेड पे में उच्चतर माध्यमिक नियोजित शिक्षकों का मूल वेतन 23650 से शुरू होता है।_

_*वेतन अंतर 29200 – 23650= 5550 रुपया और बढ़ा दिया जाए तो उच्च माध्यमिक नियोजित शिक्षक को 2800 ग्रेड पे में 5200 का रनिंग स्केल के साथ राज्यकर्मी का दर्जा मिल जाएगा।*_

_यानी कि 15% वेतन वृद्धि के बाद भी हमसब अभी तक राज्यकर्मी के 5200 के मूल स्केल यानी रंनिंग स्केल को नही छू पाएं हैं।_

_*जिसमें सबसे ज्यादा अंतर +2 शिक्षक वाले ढांचे में 5550 रुपया यानी 23% बढा दिया जाए, तो रनिंग स्केल मिल जाएगा। स्नातक ग्रेड वाले नियोजित माध्यमिक शिक्षक और स्नातक *शिक्षक के ढांचे में 3020 रुपया यानी 13% बड़ा दिया जाए तो रनिंग स्केल मिल जाएगा* और सब से कम अंतर *बेसिक ग्रेड यानी 1 से 5 तक के नियोजित शिक्षक वाले ढांचे में मात्र 410 रुपए यानी 2% बड़ा दिया जाये तो रनिंग स्केल मिल जाएगा।*_

_कुल मिलाकर सरकार नया स्लेब बनाने के बाद भी चपरासी और लिपिक के बराबर भी वेतन शिक्षकों को नहीं दिया।_

_*ओवरऑल 1 से 12 तक शिक्षकों के वेतन बजट को 6% बड़ा दिया जाए तो सभी को 5200 का वेतनमान में ग्रेड पे 2000,2400,2800 का रनिंग स्केल के साथ राज्यकर्मी का दर्जा मिल जाएगा*_

_लेकिन राज्यकर्मी के स्लेब से माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षकों के स्लेब में इतना अधिक अंतर के लिए जिम्मेदार कौन है?_

_

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×