12 नवम्बर 2021 में राज्यभर के स्कूलों में आयोजित हुए राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण 2021 परीक्षा में लगभग 5000 से अधिक शिक्षक उपस्थित पाए गए , विद्यालय से अनुपस्थित पाए गए शिक्षकों की वेतन कटौती के साथ ही साथ विभागीय करवाई हुई शुरू , बिहार के किस किस जिलो के कितने शिक्षक पाए गए एब्सेंट जानने के लिए पूरी खबर को अंत तक पढें

बिहार पटना :–स्कूल में उपस्थित नहीं रहने वाले टीचरों पर अब सरकार कार्रवाई करेगी. दरअसल, राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण 2021 की एक रिपोर्ट में यह पाया गया है कि बिहार के 5,667 स्कूलों में शिक्षक ड्यूटी से गायब रहते हैं. वैसे शिक्षकों पर सरकार कार्रवाई करते हुए वेतन में कटौती करेगी. इसके लिए शिक्षा विभाग ने बच्चों के मूल्यांकन सर्वे में अनुपस्थित रहे शिक्षकों की रिपोर्ट जिलों से मांगी है.

इस संबंध में केंद्र सरकार की ओर से 12 नवंबर को राष्ट्रीय स्तर पर यह सर्वेक्षण कराया गया था. इसमें 5,727 विद्यालयों में शामिल किया गया था, अपरिहार्य कारणों से 60 विद्यालय को सर्वे में शामिल नहीं किया गया. शिक्षा विभाग द्वारा तैयार कराई गई जिलेवार रिपोर्ट में सर्वे से जुड़े स्कूलों के एक लाख 70 हजार 875 बच्चे शामिल हुए हैं, जिनकी मूल्यांकन रिपोर्ट अप्रैल में केंद्र सरकार की ओर से जारी की जाएगी.

जानकारी के अनुसार सर्वेक्षण में अररिया में 4,965, अरवल में 3,357, औरंगाबाद में 4,526, बांका में 4,131, बेगूसराय में 4,923, भागलपुर में 4,722, भोजपुर में 4,974, बक्सर में 4,839, दरभंगा में 4,820, गया में 4,899, गोपालगंज में 4,896, जमुई में 3,893, जहानाबाद में 4,016, कैमुर में 4,115, कटिहार में 4,372 और खगड़‍िया से 4,252 बच्‍चे शामिल हुए.

वहीं, किशनगंज में 4,446, लखीसराय में 3,782, मधेपुरा में 3,688, मधुबनी में 5,086, मुंगेर में 4,149, मुजफ्फरपुर में 4,306, नालंदा में 5,378, नवादा में 3,838, पश्चिम चंपारण में 4,378, पूर्णिया में 4,590, पटना में 6,123, पूर्वी चंपारण में 4,378, रोहतास में 4,973, सहरसा में 4,306, समस्तीपुर में 4,603, सारण में 4,838, शेखपुरा में 3,468, शिवहर में 3,209, सीतामढ़ी में 5061, सिवान में 4,770, सुपौल में 4,456 और वैशाली में 4,352 बच्चे शामिल हुए.

बिहार के 27 जिलों में कक्षा तीन, पांच, आठ और 10 के चयनित स्‍कूलों में शिक्षा विभाग और सीबीएसई की टीम ने सर्वे किया. NAS 2021 के लिए सभी चयनित स्‍कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्य की गई थी. बावजूद शिक्षक अनुपस्थित रहे, तो अब उनपर कार्रवाई करने की तैयारी सरकार द्वारा की जा रही है.

राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण वाले दिन 60 स्कूलों के गैरहाजिर शिक्षकों के वेतन पर रोक लग गयी है।
शिक्षकों के गैरहाजिर रहने की वजह से संबंधित 60 स्कूल राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण में शामिल नहीं हो पाये। इन 60 स्कूलों में सहरसा एवं गोपालगंज के छह-छह, मधुबनी, पटना एवं सारण के चार-चार, बेगूसराय, दरभंगा, कैमूर, रोहतास एवं समस्तीपुर के तीन-तीन, औरंगाबाद, लखीसराय, मुजफ्फरपुर एवं सुपौल के दो-दो तथा अररिया, अरवल, बांका, भागलपुर, भोजपुर, गया, जमुई, कटिहार, मधेपुरा, मुंगेर, नालंदा, पूर्वी चंपारण एवं सिवान के एक-एक स्कूल शामिल हैं।

आपको याद दिला दूं कि केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने देश के 36 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के 733 जिलों 12 नवंबर को राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण कराया है। सर्वेक्षण के लिए देश भर के 1.24 लाख स्कूल चिन्हित किये गये थे। इनमें केंद्र एवं राज्य सरकारों के स्कूलों के साथ ही वित्त सम्पोषित एवं प्राइवेट स्कूल शामिल थे। राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण में जिन कक्षाओं का असेसमेंट 3री, 5वीं, 8वीं एवं 10वीं कक्षा के बच्चों का असेसमेंट हुआ। बिहार की बात करें, तो राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण के लिए राज्य के 5,727 स्कूल चिन्हित थे। इसके लिए चिन्हित स्कूलों को उस दिन निश्चित रूप से ससमय खोलने एवं शिक्षक-कर्मचारियों को ससमय उपस्थित रहने के निर्देश शिक्षा विभाग के अपर मुख्यसचिव संजय कुमार द्वारा दिये गये थे। इसके साथ ही हर जिले में नोडल अफसर भी तैनात किये गये थे। 5,727 चिन्हित स्कूलों में 1,95,092 बच्चों को सर्वेक्षण में शामिल होना था।

शिक्षा विभाग को मिली रिपोर्ट के मुताबिक शिक्षकों की गैरहाजिरी की वजह से चिन्हित 5,727 स्कूलों में से 5,667 स्कूल ही राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण में शामिल हो पाये। इस वजह से सर्वेक्षण में 1,95,092 बच्चों के बदले 1,70,875 बच्चे ही शामिल हो पाये। शिक्षकों की गैरहाजिरी की वजह से राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण में शामिल होने से वंचित रह गये 60 स्कूलों के शिक्षक काररवाई के दायरे में आ गये हैं।

बहरहाल, राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण की रिपोर्ट केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा आगामी अप्रैल माह में जारी करने की तैयारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here