बिहार में स्कुलो की जाँच के लिए सरकार ने बनाई स्पेसल टीम ,   राज्य सरकार की उड़नदस्ता टीम राज्यभर के स्कुलो और शिक्षको की जाँच पड़ताल के लिए  19 उड़नदस्ता टीम हुई रवाना , सभी विद्यालयों की ये टीम करेगी जाँच , अनुपस्थित पाए जाने पर शिक्षको पर होगी कठोर कार्रवाई , राज्य की उड़नदस्ता टीम विद्यालय में निम्न चीजो की करेगी जाँच , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें  - NewstvBihar बिहार में स्कुलो की जाँच के लिए सरकार ने बनाई स्पेसल टीम ,   राज्य सरकार की उड़नदस्ता टीम राज्यभर के स्कुलो और शिक्षको की जाँच पड़ताल के लिए  19 उड़नदस्ता टीम हुई रवाना , सभी विद्यालयों की ये टीम करेगी जाँच , अनुपस्थित पाए जाने पर शिक्षको पर होगी कठोर कार्रवाई , राज्य की उड़नदस्ता टीम विद्यालय में निम्न चीजो की करेगी जाँच , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें  - NewstvBihar

बिहार में स्कुलो की जाँच के लिए सरकार ने बनाई स्पेसल टीम ,   राज्य सरकार की उड़नदस्ता टीम राज्यभर के स्कुलो और शिक्षको की जाँच पड़ताल के लिए  19 उड़नदस्ता टीम हुई रवाना , सभी विद्यालयों की ये टीम करेगी जाँच , अनुपस्थित पाए जाने पर शिक्षको पर होगी कठोर कार्रवाई , राज्य की उड़नदस्ता टीम विद्यालय में निम्न चीजो की करेगी जाँच , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें 

बिहार में स्कुलो की जाँच के लिए सरकार ने बनाई स्पेसल टीम ,   राज्य सरकार की उड़नदस्ता टीम राज्यभर के स्कुलो और शिक्षको की जाँच पड़ताल के लिए  19 उड़नदस्ता टीम हुई रवाना , सभी विद्यालयों की ये टीम करेगी जाँच , अनुपस्थित पाए जाने पर शिक्षको पर होगी कठोर कार्रवाई , राज्य की उड़नदस्ता टीम विद्यालय में निम्न चीजो की करेगी जाँच , पूरी जानकारी के लिए खबर को अंत तक पढें 

 

Bihar Education News: बिहार में प्रारंभिक विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियों की जांच के लिए 19 अफसरों की टीमें बनायी गई हैं। टीमें विभिन्न जिलों में रवाना कर दी गई हैं।
31 अगस्त तक सभी टीमों को विद्यालयों की जांच रिपोर्ट देनी है और उसकी समीक्षा के बाद विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियों में तेजी लाने पर और निर्देश जारी किए जाएंगे। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने बताया कि पहली से आठवीं कक्षा तक के विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियों की जांच जरूरी है। बिहार में कोरोना संक्रमण के कारण इन स्‍कूलों में करीब 134 दिनों के बाद पठन-पाठन शुरू हुआ है। पिछले डेढ़ साल से इन स्‍कूलों में पढ़ाई की व्‍यवस्‍था बुरी तरह बाधित हुई है।

इन अधिकारियों को दिया गया है जांच का जिम्‍मा

वैशाली में बिहार राज्य शिक्षा परियोजना परिषद के राज्य परियोजना निदेशक श्रीकांत शास्त्री, बेगूसराय में अपर राज्य परियोजना निदेशक सुनयना कुमारी, रोहतास में अपर राज्य परियोजना निदेशक रविशंकर सिंह, पटना में राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी लालिमा एवं कार्यपालक अभियंता विजय कुमार तरुण, नालंदा में राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी रश्मि रेखा एवं उदय कुमार उज्जवल, नवादा में अपर राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी प्रभात किशोर एवं शंभू प्रसाद, भोजपुर में राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी मो. इमत्याज आलम एवं सुनील कुमार, सारण में राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी नीरज कुमार एवं जितेंद्र कुमार पासवान, समस्तीपुर में भोला प्रसाद सिंह एवं मो.शाहिद मोबिन, मुजफ्फरपुर में मो.असगर अली एवं शशि भूषण राय विद्यालयों में जाकर शैक्षणिक गतिविधियों, आधारभूत संरचना निर्माण की प्रगति और अग्रिम राशि के विरुद्ध समायोजन का अनुश्रवण करेंगे।

व्‍यवस्‍था को पटरी पर लाने की होगी कोशिश

दरअसल, बिहार के प्राथमिक स्‍कूलों में मोटे तौर पर देखें तो डेढ़ साल के बाद पढ़ाई शुरू हो रही है। इस साल की शुरुआत में थोड़े दिनों के लिए स्‍कूल खुले थे, लेकिन संक्रमण की रफ्तार बढ़ते ही दोबारा कक्षाओं को स्‍थगित करना पड़ा। अब सरकार चाहती है कि पूरी व्‍यवस्‍था को इस तरह बनाया जाए ताकि बच्‍चों को हुए नुकसान की भरपाई हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×