BPSC से 40 हजार प्राथमिक विद्यालय में और 5334 माध्यमिक विद्यालय में होगी प्रधानाध्यापकों की होगी बहाली , इनकी बहाली  नियोजित नही बल्कि वेतनमान पर होगी , इन्हें मिलेगी राज्यकर्मियों का दर्जा , इस परीक्षा के लिए किया होगी योग्यता , परीक्षा का किया होगा पैटर्न , कब आयोजित होगी परीक्षा कितना नम्बर पर लाने पर दिया जाएगा रिजल्ट जानने के लिए पूरी खबर को पढ़े  - NewstvBihar BPSC से 40 हजार प्राथमिक विद्यालय में और 5334 माध्यमिक विद्यालय में होगी प्रधानाध्यापकों की होगी बहाली , इनकी बहाली  नियोजित नही बल्कि वेतनमान पर होगी , इन्हें मिलेगी राज्यकर्मियों का दर्जा , इस परीक्षा के लिए किया होगी योग्यता , परीक्षा का किया होगा पैटर्न , कब आयोजित होगी परीक्षा कितना नम्बर पर लाने पर दिया जाएगा रिजल्ट जानने के लिए पूरी खबर को पढ़े  - NewstvBihar

BPSC से 40 हजार प्राथमिक विद्यालय में और 5334 माध्यमिक विद्यालय में होगी प्रधानाध्यापकों की होगी बहाली , इनकी बहाली  नियोजित नही बल्कि वेतनमान पर होगी , इन्हें मिलेगी राज्यकर्मियों का दर्जा , इस परीक्षा के लिए किया होगी योग्यता , परीक्षा का किया होगा पैटर्न , कब आयोजित होगी परीक्षा कितना नम्बर पर लाने पर दिया जाएगा रिजल्ट जानने के लिए पूरी खबर को पढ़े 

BPSC से 40 हजार प्राथमिक विद्यालय में और 5334 माध्यमिक विद्यालय में होगी प्रधानाध्यापकों की होगी बहाली , इनकी बहाली  नियोजित नही बल्कि वेतनमान पर होगी , इन्हें मिलेगी राज्यकर्मियों का दर्जा , इस परीक्षा के लिए किया होगी योग्यता , परीक्षा का किया होगा पैटर्न , कब आयोजित होगी परीक्षा कितना नम्बर पर लाने पर दिया जाएगा रिजल्ट जानने के लिए पूरी खबर को पढ़े 

 

 

बिहार पटना। :–बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) के माध्यम से प्रदेश के 40058 हजार सरकारी प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक और 5334 नए (उत्क्रमित) उच्च माध्यमिक विद्यालयों में हेडमास्टर (प्रधानाध्यापक) की बहाली होगी। खास बात यह कि देश के आजादी के बाद पहली बार प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान अध्यापक के पद का सृजन और फिर उस पर बहाली प्रक्रिया सुनिश्चित की जा रही है। गत 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्कूली शिक्षा के विकास एवं गुणवत्ता में सुधार के लिए विद्यालय स्तर पर कुशल एवं प्रभावी नेतृत्व की आवश्यकता जतायी थी तब उन्होंने प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान अध्यापक का संवर्ग और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक संवर्ग का गठन करने की घोषणा की थी।

मुख्यमंत्री की घोषणा पर तत्काल अमल करते हुए शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने बताया कि प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक के लिए 40058 पद और नए उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के लिए 5334 पद का सृजन किया गया है। इन पदों पर मंत्रिपरिषद की मंजूरी मिल गई है और अब बिहार लोक सेवा आयोग के माध्यम से लिखित परीक्षा के आधार पर बहाली सुनिश्चित की जाएगी। इसके लिए सरकार की ओर से आयोग को अधियाचना भेजी जाएगी।

प्रधान शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों को विद्यालय प्रबंधन एवं संचालन हेतु विशेष अधिकार भी दिए जाएंगे क्योंकि ये सभी शिक्षा विभाग के गाइडलाइन पर कार्य करेंगे। ये नियोजन इकाइयों से बाहर रहेंगे और इनका अलग संवर्ग व वेतनमान होगा। यूं कहें कि ये राज्य कर्मचारी होंगे। इस व्यवस्था से स्कूली शिक्षा व्यवस्था में दूरगामी बदलाव एवं सुधार का मार्ग प्रशस्त होगा। राज्य में 29 हजार मध्य विद्यालयों में पहले से प्रधानाध्यापकों के पद सृजित हैं और उनमें जितने पद खाली हैं उन्हें चिन्हित कर आयोग के माध्यम से लिखित परीक्षा के आधार पर चयनित प्रधानाध्यापकों से ही भरा जाएगा।

ये होगी पात्रता

प्रधान शिक्षक पद के लिए स्नातक और बीएड के अलावा पांच वर्ष का अनुभव। प्रधानाध्यापक पद हेतु स्नातकोत्तर और बीएड/एमएड तथा न्यूनतम पांच वर्ष का अनुभव। निजी विद्यालयों में शिक्षण कार्य या विद्यालय प्रबंधन की जिम्मेदारी संभाल रहे योग्य एवं अनुभवी शिक्षकों को भी मौका दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×